Vyavsaay Upanishad Digital

Current Status
Not Enrolled
Price
Rs 7990
Get Started
Program
Materials

छोटे और मध्यम उद्योग और व्यवसाय किसी भी देश की अर्थव्यवस्था और समाज के लिए रीढ़ की हड्डी होती है | फिर भी इस उद्यमी समुदाय के लिए समुचित मार्गदर्शन, सरल भाषा में, लगभग उपलब्ध नहीं है | व्यवसाय उपनिषद इस कमी को पूरा करता है |

इस प्रोग्राम के साथ आपको मिलता है व्यवसाय उपनिषद यह पुस्तक (मूल्य रु. 3657-5990) और सभी 225 चर्चाओं का ऑडियो ताकि यदि आप के पास पढ़ने के लिए समय ना भी हो तो भी 4 से 20 मिनट के छोटे-छोटे प्रवचनों के सहारे आप पूरी पुस्तक सुन सकें | जहाँ-जहाँ कोई चित्रण यानि इल्यूस्ट्रेशन आते हैं, वहाँ एक विशेष जिंगल के द्वारा संकेत दिया जाता है ताकि आप वापस पुस्तक या स्क्रीन पर वह चित्रण देख लें |

सेम्पल सेशन में झलक दी गई है, अवश्य देख लें |

अब व्यवसाय उपनिषद पुस्तक को सुनिए गाड़ी में चलते हुए, लंचब्रेक में, या अपनी सुविधा के अनुसार कभी भी !

बातचीत जैसी सरल भाषा में

ठीक वैसे ही जैसे हम आपस में बात करते हैं – एकेडेमिक स्टाईल में नहीं

पढ़ने की आदत ना हो तो भी

व्यसाय उपनिषद् डिज़िटल में पूरी पुस्तक स्वयं लेखक द्वारा पढ़ दी गई है

180+ चित्रण (Illustrations)

ताकि कोई बात समझने से छूट ना जाए

225 उपयोगी टॉपिक्स

ऐसे प्रश्नों पर आधारित जो अभी तक हम किसी से डिस्कस नहीं कर पाए

मुश्किलों के लिए भी, अवसरों के लिए भी

अच्छे समय और कठिन समय का कम्पेनियन (साथी)

पीढ़ियाँ जोड़ने वाला सिस्टम

छोटे-मध्यम व्यवसाय परिवार और संस्कृति पर आधारित होते हैं, पूंजीमात्र पर नहीं – इसीलिए व्यवसाय उपनिषद् 

FAQ – Frequently Asked Questions

क्या आप यह पुस्तक और ऑनलाइन प्रोग्राम शुद्ध हिंदी में है ?

यह पुस्तक और प्रोग्राम उत्कृष्ट क्वालिटी की ऐसी हिंदी में लिखी गई है जो समझने में आसान हो और जहाँ आवश्यकता के अनुसार सरल बनाने के लिए अंग्रेजी शब्दों का भी उपयोग किया गया हो | इसलिए आपको व्यवसाय उपनिषद् समझने में कभी भी मुश्किल नहीं आएगी | फिलहाल यह पुस्तक और व्यवसाय उपनिषद डिजिटल हिंदी में ही उपलब्ध है, अन्य भाषाओं में नहीं |

क्या मुझे व्यवसाय उपनिषद डिजिटल के साथ पुस्तक भी प्राप्त होगी ?

जी हाँ , व्यवसाय उपनिषद डिजिटल के प्रत्येक सब्सक्राइबर को व्यवसाय उपनिषद पुस्तक भी भेजी जाएगी | यदि आप सिर्फ पुस्तक खरीदना चाहते हैं तो इस लिंक से ऑर्डर कर सकते हैं |

यदि किसी कारण मैं सब्सक्रिप्शन कैंसिल करना चाहूँ तो…?

वैसे तो हम यह रिकमेंड करेंगे कि आप अच्छी तरह जाँच-परख कर और फ्री सेशन की समीक्षा  करने के बाद + और किसी शुभचिंतक / सलाहकार के अनुशंसा (prescription) के साथ ही सब्सक्रिप्शन लें | फिर भी यदि आप कभी कैंसिल करना चाहें तो तीसरे दिन और 20वें दिन ऐसा कर सकते हैं | रिफंड से सम्बंधित विस्तृत नियम इस लिंक पर उपलब्ध हैं , जिसका सारांश यह है कि तीसरे दिन कॉन्सेप्चुवलाइज़ेशन की किसी ऐसी त्रुटि की ओर हमारा ध्यान आकर्षित करके जो हमें भी स्वीकार्य हो, आप अपना सब्सक्रिप्शन कैंसिल कर सकते हैं; और 20वें दिन 30% तक + एडमिनिस्ट्रेटिव चार्जेज़ के डिडक्शन के साथ सब्सक्रिप्शन केंसल किया जा सकता है |

सब्सक्रिप्शन के दौरान किसी चर्चा पर मुझे प्रश्न पूछना हो तो…?

प्रत्येक सेशन के साथ प्रश्न पूछने के लिए सुविधा रहेगी | और इसके अलावा सभी सब्सक्राइबर के लिए एक फोरम भी उपलब्ध रहेगा | आप कभी भी इस ईमेल care@addwit.org पर लिखकर प्रश्न पूछ सकते हैं, या जब कभी लेखक किसी पब्लिक फोरम में चर्चा करने के लिए आएँ, तो उनसे भी आप प्रश्न पूछ सकते हैं | यदि आप चाहें तो लेखक के साथ इस सब्सक्रिप्शन के दौरान वीडियो कॉल के माध्यम से बीस-बीस मिनट के दो पर्सनल सेशंस की व्यवस्था भी हो जाएगी |

क्या सारे सेशन एकसाथ मिल जाएँगे ?

हमें सेशंस प्रति सप्ताह 25-25 के नौ बंडल्स में नौ किश्तों में मिलेंगे ताकि हम अच्छी तरह रिव्यू करते हुए आगे बढ़ें | तत्पश्चात, (एक बार सारे सेशंस आपके डैशबोर्ड में आने के बाद) भी आपको यह छह महीनों के लिए उपलब्ध ( accessible) रहेगा | और पुस्तक तो आपके पास हमेशा के लिए है ही |

क्या व्यवसाय उपनिषद, इस पद्धति पर हमारी एसोसिएशन / समाज के लिए कोई विशेष प्रोग्राम या सर्टिफिकेशन प्रदान किया जा सकता है ?

अवश्य ! अनेक शैक्षणिक संस्थान, ट्रेड एसोसिएशन, औद्योगिक संगठन तथा सामाजिक संगठन इस दिशा में हमसे बातचीत कर रहे हैं | आप हमें इस ईमेल care@addwit.org पर एक बार संपर्क करें | आपसी सहमति के साथ अवश्य कोई ना कोई सुन्दर व्यवस्था की जाएगी |

व्यवसाय उपनिषद् (512 पृष्ठ, हार्डकवर ) - यह पुस्तक भी आपको भेजी जाएगी | यदि किसी कारण विलम्ब हो रहा हो तो हमें care@addwit.org पर ईमेल करें या  8433560250 पर मेसेज करें 

व्यवसाय उपनिषद् डिज़िटल के ऑडिओज़ बनाने के काम की प्रगति - 2 / 225

Scroll to Top